Tuesday, June 30, 2015

हर साँस में हरचंद महकता हुआ तू है

Heart, Snow and Sun
हर साँस में हरचंद महकता हुआ तू है
धड़कन का बदन हिज्र के काँटों से लहू है

दिल, गिरती हुई बर्फ़ में, ढलता हुआ सूरज
जिस सिम्त भी उठती है नज़र, आलम-ए-हू है

शायद के अभी आस कोई क़त्ल हुई है
रक़्साँ मेरे सीने में किसी ख़ूँ की बू है

हर टीस के माथे पे मेरा नाम लिखा है
हर दर्द के होंटों की सदा मेरा लहू है

दिखलाऊँ किसे ज़ख़्म तेरे हिज्र का जानाँ
मुमकिन ही कहाँ चाक-ए-जुदाई का रफ़ू है
Har SaaNs meN harchund mahektaa huaa tu hai
Dharkan ka badan hijr ke kaaNtoN se lahoo hai

Dil, girti hui barf meN, dhalta hua sooraj
jis simt bhi uth-tee hai nazar, aalam-e-hoo hai

Shayad ke abhi aas koi qatl huee hey
RaqsaaN merey seeney meN kisi khoon ki boo hai

Har tees ke mathey pe mera naam likha hai
Har dard ke hoNtoN ki sada mera lahoo hai

DikhlaooN kisey zakhm terey hijr ka janaN
Mumkin hi kahaaN chaak-e-judaee ka rafoo hai!
Share: