Wednesday, July 01, 2015

पुरानी चीज़ों को इक दिन वह ख़ाक में मिलाता है





पुरानी चीज़ों को इक दिन वह ख़ाक में मिलाता है
मगर इस ख़ाक से ही फिर नयी दुनिया बनाता है

उसे मीठा बनाकर बाँटता है सारी धरती पर
कि सूरज जितने पानी को समन्दर से उठाता है

उसे ठुकरानी पड़ती है सहर की नींद की लज़्ज़त
वो सबसे पहले उठता है जो औरों को जगाता है

इधर इंसान को उसने ज़मीं पर फूल बख़्शे हैं
इधर वो आसमाँ को भी सितारों से सजाता है

किसी ज़ालिम के पंजों से ये बचकर आया है शायद
तू अपनी छत पे ठहरे पंक्षी को नाहक़ उड़ाता है

न इसको इल्म है उसका न उसकी शक्ल से वाक़िफ़
ख़ुदा के साथ इन्साँ का बहुत दिलचस्प नाता है
puraanii cheezoN ko ik din woh kh.aak meN milaata hai
magar is kh.aak se hii phir nayii duniya banaata hai

usey meetha banaakar baaNTata hai saari dhartii par
ki sooraj jitney paanii ko samandar se uthaata hai

usey thukraanii paRtii hai saher kii neeNd kii lazzat
woh sabse pahley uthtaa hai jo auroN ko jagaata hai

idhar insaan ko usney zameen par phool bakhshey haiN
idhar wo aasamaaN ko bhii sitaaroN se sajaata hai

kisie zaalim ke panjoN se yeh bachkar aaya hai shaayad
too apnii chhat pe thahrey paNchhii ko naahaq uRaata hai

na isko ilm hai uskaa, na uskii shakl se waaqif
khu.daa ke saath insaaN kaa bahut dilchasp naata hai
Share: