Thursday, July 02, 2015

शायरी बेवफा की...

वो बेवफा हमारा इम्तेहा क्या लेगी…
मिलेगी नज़रो से नज़रे तो अपनी नज़रे झुका लेगी…
उसे मेरी कब्र पर दीया मत जलाने देना…
वो नादान है यारो… अपना हाथ जला लेगी.
Share: