Saturday, July 11, 2015

उतना मिलेगा जितना आप देंगे

दोस्तों , आज एक छोटी सी कहानी सुनिए जो मनोरंजन के साथ साथ जिंदगी का  एक बहुत अच्छा और महत्वपुर्ण सबक सीखाती है।

एक बार की बात है । एक किसान हर रोज एक पौंड मक्खन एक बेकरी वाले  को बेचा करता था । एक दिन बेकरीवाले ने सोचा - " मैं हर रोज इस किसान पर भरोसा करके बिना तोले मक्खन ले लेता हुं, क्यों न आज मक्खन को तोल कर देखुं  ताकि मुझे पता लग सके कि मक्खन पुरा मिल रहा है कि नहीं ।"     

तोलने पर मक्खन वजन में कम निकला । बेकरीवाले को किसान पर बहुत क्रोध आया । उसने किसान पर कोर्ट में शिकायत दर्ज कराई । किसान को कोर्ट में बुलाया गया । जज  ने किसान से पुछा कि क्या वह मक्खन तोलने के लिए किसी बाट का इस्तेमाल करता है । किसान ने उत्तर दिया,  कि यूं तो उसके पास बाट नहीं है, लेकिन फिर भी वह उसे तोल लेता है । हैरान जज ने पुछा वह बिना बाट के मक्खन कैसे तोलता है ? तो किसान ने उत्तर दिया कि लंबे समय से हर रोज वह , बेकरीवाले से एक पौंड का ब्रेड खरीदता है । हर रोज जब वह बेकरीवाला मुझे ब्रेड देकर जाता है,तो मैं उतने ही वजन का मक्खन उसे तोल कर दे देता हुं । यह सुनकर बेकरीवाला हक्का बक्का रह गया ।

दोस्तों , इस कहानी से मिलने वाला सबक स्पष्ट है कि जो आप दुसरों को देते हैं वही आपको रिटर्न में वापस मिलता है। जब आप दुसरों के साथ अच्छा या बुरा व्यवहार करते है तो वही व्यवहार आपके साथ भी दोहराया जाता है । हमारे यहां एक बहुत पुरानी कहावत है कि 'बोया पेड़ बबुल का तो आम कहां से होय।'  अत: अपना व्यवहार शालीनता युक्त बनाएं ।

अंत में मेरा यही कहना है कि जैसे व्यवहार की आप दुसरों से अपेक्षा करते हैं,  वैसा ही व्यवहार पहले दुसरों के साथ करें ।
Share: