Thursday, October 08, 2015

इस देश में जानवरों को नहीं इंसानों को रहना पड़ता है छोटे-छोटे लोहे के पिंजरों में

हांगकांग को बेहतर लाइफस्टाइल और खूबसूरती के लिए दुनिया भर में जाना जाता है। इस कारण हर साल लाखों सैलानी घूमने के लिए यहां आते हैं। लेकिन इसका एक दूसरा पहलू भी है, जिसके बारे में शायद बहुत कम लोग ही जानते होंगे। दरअसल, हांगकांग में आज भी बहुत से ऐसे लोग हैं, जो महंगे घरों को खरीदने में सक्षम नहीं हैं। इस कारण ये लोग जानवरों की तरह पिंजरे में रहने को मजबूर हैं।
Hong kong poor people living in metal cages
हालांकि, लोहे से बने ये पिंजरे भी इन गरीबों को आसानी से नहीं मिलते हैं। इसके लिए भी उन्हें कीमत चुकानी पड़ती है। बताया जाता है कि एक पिंजरे की कीमत लगभग 11 हजार रुपए है। इन पिंजरों को खंडहर हो चुके मकानों में रख दिया जाता है।


Hong kong poor people living in metal cages
ऐसे में, घर न होने के कारण मजबूरी में पिंजरों के अंदर एक-एक अपार्टमेंट में 100-100 लोग रहते हैं। एक अपार्टमेंट में महज दो ही टॉयलेट होते हैं, जिससे इनकी परेशानी और बढ़ जाती है।
Hong kong poor people living in metal cages
सोसाइटी फॉर कम्युनिटी आर्गनाइजेशन के मुताबिक, हांगकांग में फिलहाल इस तरह के घरों में लगभग एक लाख लोग रह रहे हैं। इतना ही नहीं, पिंजरों की भी साइज निर्धारित होती है। इनमें से कोई पिंजरा छोटे केबिन के बराबर होता है, तो कोई पिंजरा ताबूत के आकार का होता है। वहीं, पिंजरे में बिछाने के लिए ये लोग गद्दे की जगह बांस की चटाई का उपयोग करते हैं।
Hong kong poor people living in metal cages
Hong kong poor people living in metal cages
Share: