Saturday, June 04, 2016

BEKARARI Shayari mix collection बेक़रारी पर शायरी संग्रह

इश्क़ करने से पहले~~आ बैठ , फैसला कर लें ~
सुकूँ किसके हिस्से होगा ~~ बेक़रारी किसके हिस्से
***
फिर कुछ इस दिल् को बेक़रारी है
सीना ज़ोया-ए-ज़ख़्म-ए-कारी है
फिर जिगर खोदने लगा नाख़ून
आमद-ए-फ़स्ल-ए-लालाकारी है. Mirza Ghalib
***
बेक़रारी का पूछते हो सबब……… ………..
सिर्फ आपका इंतज़ार है साहिब !!
***
ले गया छीन के कौन आज तेरा सब्रो-करार;
बेक़रारी तुझे ऐ दिल कभी ऐसी तो न थी।
***
शब-भर नींद में भी अब ‘नींद’ कहाँ आती है,
फ़िराक-ए-यार में हर ख़्वाब निकल जाती है!
***
बेक़रारी बढ़ते बढ़ते दिल की फ़ितरत बन गई
शायद अब तस्कीन का पहलु नज़र आने लगे
***
रात भर बेक़रारी की सबब बनी जो सनसनाहट
वो सिर्फ हवा के झोंके थे यादों के आँगन में।
*** Bekarari Hindi Shayari
कब दिल को सुकून और बेक़रारी एक साथ होगी?
कब बहुत कुछ कहना चाहना और कुछ भी न कह पाना होगा ?
***
हमें भी नींद आ जाएगी, हम भी सो ही जाऐंगे,
अभी कुछ बेक़रारी है, सितारों तुम तो सो जाओ !!
***
आलम ए बेक़रारी बता रहे हो ,
जाने क्या बात हुई कभी मोहब्बत तो कभी ख़ुशी लुटा रहे हो !!
***
ले गया छीन के कौन आज तेरा सब्रो-करार;
बेक़रारी तुझे ऐ दिल कभी ऐसी तो न थी।
*** Bekarari Hindi Shayari
जुम्बिश लबों की तेरी दस्तक थी दिल पे मेरे,
उफ़्फ़ बेक़रारी-ए-दिल, था इंतज़ार एक हाँ का..!
***
बेक़रारी सी बेक़रारी है,वस्ल है और फ़िराक़ तारी है !
जो गुज़ारी न जा सकी हम से, हम ने वो ज़िन्दगी गुज़ारी है !
***
SAD Bekarari Shayari
SAD Bekarari Shayari
आँख मे अश्क़, सांस भारी है जाने क्यो इतनी बेक़रारी है।
***
अगर इश्क़ करो तो अदब_ए_वफ़ा भी सीख लो,
ये चाँद लम्हों की बेक़रारी मोहब्बत नहीं होती ॥
***
बेक़रारी दिले-बीमार की अल्ला-अल्ला।
फ़र्शेगुल पर भी न आना था, न आराम आया॥
***
आलम तो ये न था कि दूरियाँ इतनी बढ़ जाये,
पर बेक़रारी ने तो हद कर दी ।
*** Bekarari Hindi Shayari
फिक्र-ऐ-बेक़रारी में, यूँ कागज़ सुर्ख होते रहे,
कलम चलती रही और मसाइल हलाक होते चले गए |
***
दर्द से मेरे है तुझको बेक़रारी हाए हाए
क्या हुआ ज़ालिम तेरी ग़फ़लतशिआरी हाए हाए
Mirza Ghalib SAD Shayari
***
बेक़रारी मेरी देख ली है तो अब ज़ब्त भी देखना,
इतना खामोश रहूँगा मैं के चीख उठेगा तू…
*** Bekarari Hindi Sad Shayari
बेक़रारी है कभी, पूरे समन्दर की तरह,
और कभी मिल जाता है बस, एक क़तरे में सुकून.
***
सभी को दुख था समंदर की बेक़रारी का
किसी ने मुड़ के नदी की तरफ नहीं देखा
***
जो सब से जुदा है वो अंदाज़ हो तुम, छुपा था जो दिल मे वोही राज़ हो तुम.. तुम्हारी नजाकत बनी जब से चाहत सुकून बन गयी है हर एक बेक़रारी
***
बेक़रारी सी बेक़रारी है ,वस्ल है और फ़िराक़ तारीं है, जो गुज़ारी न जा सकी हमसे,हमनें वो ज़िन्दगी गुज़ारी है.
*** Bekarari Hindi Sad Shayari
म उनका “इंतेज़ार” बेक़रारी से करते रहे, वो ‘फ़रेब’ का इख़्तियार बेकद्री से करते रहे।
***
दिल की मेरी बेक़रारी मुझ से कुछ पूछो नहीं शब की
मेरी आह-ओ-ज़ारी मुझ से कुछ पूछो नहीं
***
ले गया लूट के कौन आज तेरा सब्र-ओ-क़रार
बेक़रारी तुझे ऐ दिल कभी ऐसी न थी
उनकी आखो ने ख़ुदा जाने किया क्य जादू
तबीयत मेरी माइल कभी ऐसी न थी
***
चला गया जो; खुशबू भी साथ अपने ले जाता
बेचैन दिल की बेक़रारी को थोड़ा क़रार आ जाता
*** Bekarari Hindi Shayari
इस इंतज़ार की घडी को, पल-पल की बेक़रारी को लफ़्ज़ो मे बयां कैसे कर दूँ; मखमली एहसाँसो को, रेशमी जज़्बातों को अल्फ़ाज़ो मे बयां कैसे कर दूँ।
***
कैफ़ियत ये बेक़रारी की है अब हमको अज़ीज़  ये ख़ुमारी टूट जाए तो बिखर जाएँगे हम
***
बडी मुश्किल से दिल की बेक़रारी को क़रार आया
मुझे जिस ज़ालिम ने तड़पाया उसी पे मुझको प्यार आया
***
जैसे शाम ठिठकी हो बुझने से पहले रात आग़ाज़ को झुकी जाती हो।
तुम उधर इंतज़ार में, मैं इधर बेक़रारी में
***
इश्क़ में चैन कहूँ, या आलम बेक़रारी का, तसव्वुर मरने नहीं देता, तन्हा जी नहीं सकते
*** Bekarari Hindi Sad Shayari
उम्र भर बस यही इक उदासी रही आपके दीद को आँख प्यासी रही आपके बाद जाने के बस दो यही बेक़रारी रही, बदहवासी रही..
***
हर एक शख़्स है अपने वुजूद से बाहर हर एक शख़्स के चेहरे पे बेक़रारी है
***
ना इंतज़ार ना उलझन ना बेक़रारी है
ना पूछ आज तेरी याद कितनी प्यारी है
***
अजब सी बेकरारी है;
दिन भी भारी था, रात भी भारी है;
अगर मेरा दिल तोड़ना है तो शौंक से तोड़िए;
क्योंकि चीज़ ये हमारी नहीं तुम्हारी है।
***
बेकरारी इश्क की है जाते जाते जाएगी,
सब्र आएगा तो ऐ दिल आते आते आएगा..
***
तेरी तस्वीर खुद मे ही बेक़रारी का साज़ो सामाँ है
ख़ुमारियाँ कहती हैं, इम्तहाँ है, इंतहाँ है, ख्वाबों की दास्ताँ है
***
सोचा था उनसे दूर रहकर शाद रहेँगे
बेक़रारी- सी -बेक़रारी है औ’ नाशाद हैँ हम
**
वही शाम की परछाइयाँ
दिल पे गम की रानाइयाँ
तकते …बेकरारी से राहें
मुझे घेरे हैं….तन्हाइयाँ !
***
इश्क मै तो हर चीज मिट जाती है …..
बेकरारी बनके तडपाती है
याद याद याद बस याद रह जाती है
***
मुद्दत के बाद मुलाकात का असर था , या उसके गुज़रे इश्क़ की खुमारी थी !!
दिल-ए-बरबाद को चैन भी उसके साथ था , उसी के साथ ही बेकरारी थी !!
***
वो पूछते है हाल मेरा इस बेकरारी से
की फिर मेरा ठीक होना भी मुझे अच्छा नही लगता
***
ये बेकरारी की मोहब्बत पर
कुछ यू कमाल हो जाए,।।
मेरे
मेरी बेकरारी से उसकी
बेकरारी का करार हो जाए।।
***
शरारत न होती शिकायत न होती ,
नैनों में किसी के नजाकत न होती ।
न होती बेकरारी न होते हम तनहा ,
अगर जहाँ में कमबख्त ये मोहब्बत न होती ।
***
जो हो सके तो कोई टूटा हुआ वादा ही रख दे आंखो में मेरी
के आज बढ गयी है बेकरारी हद से कहीं ज्यादा मेरी…
***
आँखें ये सुर्ख़ न सोने से नहीं। मीठे ख़्वाबों की ये ख़ुमारी है।। कल तलक थी उधर ये बेचैनी। हाँ, इधर आज बेक़रारी है।।
***
निगाहों मैं बसी उनकी ही सूरत फिर भी उनका इन्तजार है
तुझ से मिलने को ये दिल क्यों इतना बेकरार है।
***
काश आपकी सूरत इतनी प्यारी ना होती;
काश आपसे मुलाक़ात हमारी ना होती
सपनो में ही देख लेते हम आपको
तो आज मिलने की इतनी बेकरारी ना होती
***
Share: