Sunday, July 24, 2016

Motivational Story In Hindi | व्हाट्सअप निर्माता ब्रायन ऐक्टन


Motivational Story In Hindi
आज कल सबके पास Android फोन है और उसमे एक ऐसा अप्लीकेशन है जिसके बिना हमारा फोन कुछ काम का नहीं होता उस अप्लीकेशन का नाम है – WhatsApp / व्हॉट्स अप.
क्या आपको पता है की what app की शुरुवात 2009 में हुई और आज की तारिख में उसके 60 करोड़ से ज्यादा users है. और आज कल लोगों के संपर्क का साधन बना हुवा है. तो आज हम जानते है की whats App की शुरुवात कैसी हुई और इसके पीछे का इतिहास / Whatsapp Story In Hindi.

Motivational Story In Hindi

मिस्टर ब्रायन ऐक्टन / Brian Acton जो आज whats app के co-founder है उन्होंने 2009 में जॉब के लिये Facebook में अप्लाई किया वो Facebook कंपनी में जॉब करना चाहते थे लेकीन उनको वहा से रिजेक्ट किया गया. बाद में उन्होंने व्टिटर पर भी जॉब के लिये कोशिश की लेकीन वहा भी उनके हाथ में निराशा ही आयी. जब किसी के साथ ऐसा बार – बार होता है तब उसे अपनी योग्यता पे, अपने Talent पे शक होने लगता है. बहोत से लोग अपनी जिंदगी से हार मान लेते है. परेशान होकर तनाव में आ जाते है.
लेकीन ब्रायन ऐक्टन को खुद पर विश्वास था. कुछ कर दिखाने की इच्छा थी. उनके अंदर खुद को साबीत करने की आग थी. उन्होंने दुसरे लोगों की तरह हार मानने की जगह, परेशान होने की जगह अपने दोस्त के साथ मिलकर रात-दिन मेहनत करके एक ऐसा अप्लीकेशन बना डाला जिसे पूरी दुनिया ने सर पर बिठा दिया.
व्हाट्सअप अप्लीकेशन बनाने के पहले जिस Facebook कंपनी ने WhatsApp अप्लीकेशन बनाने वाले ब्रायन ऐक्टन को रिजेक्ट किया था उसी को ठीक 5 साल बाद फेसबुक कंपनी ने ब्रायन ऐक्टन के WhatsApp अप्लीकेशन को 19 बिलियन डॉलर यानी भारतीय रुपयों में एक लाख करोड़ से भी ज्यादा रुपयों में खरीदा. ब्रायन ऐक्टन जिस कंपनी में काम मांगने गये थे आज उसी कंपनी के मेजर शेयर होल्डर बन गये.
देखा दोस्तों, जिसे खुद पर विश्वास हो मेहनत करने की तैयारी हो उसे हर हाल में सफलता मिलती है. आप अपनी असफलता को किस तरह लेते है. इसपर आपकी सफलता निर्भर करती है. अगर हम अपनी असफलता को एक मौका समझकर आगे बढ़ने की उपयोग में लेते है तो आपको एक ना एक दिन सफलता जरुर मिलेंगी.
याद रखना की एक हार जिंदगी की हार नहीं होती और हमेशा ये कहते रहना की – I am चैम्पियन, I am champian.
All The Best.
Share: