Sunday, July 24, 2016

एक अनोखा बिजनेस – Real Life Inspirational Story


successful motivational story in hindi sandeep gajakas
”कहते है खोजनेवाला खुदा को भी खोज लेता हैं, अगर दिल मैं आगे बढ़ने की चाह हैं तो किसी भी मुश्किल से आसानी से जित सकते हैं, ऐसे ही एक दुनिया से हटके Idea पर आधारित एक अनोखा business मुंबई के ही एक युवक ने सुरु किया उस युवक का नाम है संदीप गजाकस
क्या है संदीप का अनोखा बिजनेस ? संदीप गजकास इस युवक का बिजनेस है बहुत ही सरल और साधा लॉन्ड्री का! हा, संदीप ने सुरु की है लॉन्ड्री, पर कपडो की लॉन्ड्री नहीं तो Shoe Laundry मतलब जुतो की लॉन्ड्री.क्या चौक गए न सुनकर? शुज धोकर और साफ कर के कोई फायदेवाला business खड़ा कर सकते है ऐसी किसीको भी जानकारी नहीं थी,फिर भी खुद के सेविंग मे से कुछ पैसे जमा करके संदीप में भारत में पहिली Shoe Laundry सुरु की.
यह बिलकुल अलग और नया होने के बावजूद सरल बिजनेस है, मुंबई के मिठीबाई कॉलेज पढ़ते समय संदीप को Shoe Laundry का खयाल आया संदीप के कॉलेज में पढ़नेवाले कुछ बड़े घर के लड़के उनके शुज के बडे बेफिकर थे. एक बार पहने के बाद जरासा भी ख़राब हुए तो वो शुज फ़ेंक देते थे. उस समय संदीप ने अपने दोस्तों से लगाये हुए शर्थ में से इस सोच का उदय हुआ. संदीप ने सिर्फ शर्थ के लिए उसके दोस्तों के शुज एकदम नए जैसे कर के लाये. इतने अच्छे की उसके  दोस्तों  को वो शुज उसके ही है इसपर भरोसा ही नहीं हुआ, उसी समय संदीप को Shoe Laundry की Idea आयी.
पर आगे Collage पूरा होने के बाद संदीप ने लोगो जैसी नोकरी करने की रह चुनी, Fashion Choreographer, Event Manager, Football Player और Call Center यैसे बहुत से जॉब उसने किये कॉल सेन्टर पर जॉब करते समय संदीप ने ग्राहक के साथ बातचीत करने का अच्छा Experience लिया. उसके बाद संदीप को उसके पुराने Idea का खयाल आया और उसने Shoe Laundry सुरु करने का फैसला किया पर उसके इस business के Idea के बारे मे उसके पिताजी को नहीं समजा पाया, So,
loading...
the-shoe-laundry-sandeep gajakasकिसी के भी Support के बिना संदीपने उसका बिजनेस सुरु किया. उसके बेडरूम मे ही उसने वर्कशॉप शुरू किया. दोस्तों के मदत से कुछ छोटा मार्केटिंग कैम्पेन किये शुरुवात को संदीप ने खुदही मार्केटिंग, क्लीनिंग, डिलीवरी, और बिलिंग ये सब संभाला. संदीप उसके ग्राहकों को बताता था की आज डिलीवरी बॉय दुसरे जगहपर गया है इसलिए मैं खुद ही डिलीवरी लेने के लिए आया हु. संदीप कहता है की वैसे तो मुझे खुदको ही डिलीवरी करना अच्छा लगता है. क्योकि हमारे शुज बहुतही नए तयार हुए देखकर ग्राहकों के चेहरे पर खुलकर मुस्कान ख़ुशी देखना मुझे अच्छा लगता है.
मुंबई में जूतों को बहुतही धुल और बुरे Climate का सामना करना पड़ता है. इसलिए Shoe Laundry की जरुरत है, शुज की एक जोड़ी के क्लीनिंग के संदीप १२० रुपये लेते है. इसमे ग्राहकों के घर से जूता लेना, उसकी मरम्मत, साफ सफाई सुकाना और वापस ग्राहकों के घर पहुचाना इन सब चीजों का इसमे समावेश होता है. ऑफिस की जगह उसकी बजेट में नहीं आती इसलिए संदीप ने ग्राहकों के घर पर ही पिकअप और डिलीवरी करना शुरू किया.
शोपर्स स्टॉप में से एक कस्टमर ने संदीप के shoe laundry के बारेमे बताने बाद शोपर्स स्टॉप ने उसे उन्होंने बेचे हुए जूतों की आफ्टर सेल्स सर्विस मतलब बिकने के बाद सेवा पहुचाने कॉन्ट्रैक्ट दिया.उसके बाद संदीप ने कभी भी पीछे मुड़कर देखा नहीं आज Adidas, Puma Shoes के जेसे लगभग सभी बड़ी ब्रैंड की मुंबई की बिकने के बाद सेवा संदीप संभालता है.sandeep-gajakas-successful-hindi-story
संदीप ने शुरुवात करने के बाद इस बिजनेस में आठ नए Competitor आये फिर भी वो ज्यादा दिन तक नहीं टिके रहे, इस कम मार्जिन बिजनेस में टिक-पाना मुस्किल है. पर संदीप ने बहुत होशियारी से उसका business बढाया अभी संदीप के पास बहुत से कामगार है. और उसका बिजिनेस तेजी से बढ़ रहा हैं.
संदीपने उसके डिलीवरी बॉय को एक ही बात पर ध्यान देने के लिए कहा है, काम ऐसा करो की जूते देखकर ग्राहकों के चेहरे पर चोकानीवाली मुस्कान आये.
संदीप के बारे मैं और जानकारी – www.theshoelaundry.com OR  http://www.shoevival.com
Share: