Saturday, October 08, 2016

योग्यता छिपती नहीं - Vishnu Sharma


एक बार अवन्ती के राजा बाहुबलि को अपने राज्य के लिए राज ज्योतिषी की आवश्यकता थी। समस्त राज्य में यह घोषणा कर दी गया। अनेक ज्योतिषी आये। राजा ने पहले ज्योजिषी से प्रश्न किया - 'आप भविष्य कैसे बतलाते हैं, महाशय?' ज्योतिषी ने कहा - 'नक्षत्र देखकर।' दूसरे ज्योजिषी से यही प्रश्न किया गया। उसने कहा- 'मैं कुण्डली देखकर बता सकता हूं कि आमुक प्यक्ति की स्थिति क्या रहेगी।‘ तीसरे ज्योतिषी ने कहा- 'मैं तो हस्त रेखाएं देखकर व्यक्ति के भविष्य का आकलन करता हूं।'

राजा ने सबकी बात सुनी, लेकिन उन्हें सन्तोष नहीं हुआ। अचानक उन्हें उन्हीं के राज्य में लब्ध प्रतिष्ठित ज्योतिषी की याद हो आयी। वे विष्णु शर्मा थे। उन्होंने तुरन्त विष्णु शर्मा को बुलावा भेजा। राजा बाहुबलि ने पूछा - 'महाशय! आपको तो पता होगा ही कि हमने राज ज्योतिषी के लिए घोषणा की थी, आप क्यों नहीं आये?‘ विष्णु शर्मा ने कहा - 'मैं अपना भविष्य जानता था कि मैं ही राज ज्योतिषी बनूंगा, इसीलिए मैंने इस पद के लिए कोई आवेदन नहीं किया। मैं जानता था कि जितने भी ज्योतिषी आ रहे हैं, वे अपना ही भविष्य नहीं जानते, भला वे राज्य का भविष्य कैसे बतलायेंगे?' यह सुनकर राजा अत्यन्त प्रभावित हुए और उन्हें राज ज्योतिषी के पद पर नियुक्त कर लिया।

Share: