Weather (state,county)

तुम्हारे दिल के अंदर हैं कितने जख्मों के आंसू

जमाना है तभी तक चुप, जब तक हैं सभी अंजान
हमारे इश्क से अब तक कोई वाकिफ नहीं मेरी जान
लो सारे फूल तुम रख लो, मुझे कांटों को चुनने दो
हमेशा के लिए बन जाओ मेरे गुलशन की मेहमान
तुम्हारे दिल के अंदर हैं कितने जख्मों के आंसू
तुम्हारी आंखों में दिखते हैं कितने दर्द के पैगाम
कहानी ये मुहब्बत की खुदा ने लिख दी है जबसे
तबसे रो रहा है हर किसी का ये दिल ए नादान
Powered by Blogger.