Weather (state,county)

Amitabh Bachchan Quotes & Dialogues in Hindi

अमिताभ बच्चन उद्धरण 

Quote 1: I just lead my life as naturally, as normally as I possibly can. But I can’t help it if controversy is hounding me day in and day out. I’m quite amazed sometimes by the way they go about it. I grow a beard and it lands up in the editorial in The Times of India.
In Hindi: मैं अपनी ज़िन्दगी जितना संभव हो उतने स्वाभाविक और सामान्य तरीके से व्यतीत कर सकता हूँ करता हूँ. लेकिन अगर दिन रात विवाद मेरे पीछे पड़े रहें तो मैं इसका कुछ नहीं कर सकता. मुझे कभी-कभी आश्चर्य होता है कि वे किस तरह ये सब करते हैं. मैं दाढ़ी बढ़ता हूँ और वह टाइम्स ऑफ़ इंडिया के सम्पादकीय में आ जाता है.
Amitabh Bachchan अमिताभ बच्चन
Quote 2: Frankly I’ve never really subscribed to these adjectives tagging me as an ‘icon’, ‘superstar’, etc. I’ve always thought of myself as an actor doing his job to the best of his ability.
In Hindi: सच कहूँ तो मैं कभी ‘आइकन’ , ‘सुपरस्टार’, इत्यदि विश्लेषणों के चक्कर में नहीं पड़ा. मैं हमेशा खुद को एक अभिनेता के रूप में देखता हूँ जो अपनी काबीलियत के अनुसार जितना अच्छा कर सकता है कर रहा है.
Amitabh Bachchan अमिताभ बच्चन
Quote 3: Dearest TV media and vans outside my home, please do not stress and work so hard.
In Hindi: प्रिय टीवी मीडिया और मेरे घर के बाहर खड़ी वैन्स, कृपया इतना तनाव मत लीजिये और इतनी कड़ी मेहनत मत कीजिये.
Amitabh Bachchan अमिताभ बच्चन
Quote 4: It’s a war zone, my body, one which has been through a great deal.
In Hindi: यह एक रणक्षेत्र है, मेरा शरीर, जिसने बहुत कुछ सहा है.
Amitabh Bachchan अमिताभ बच्चन
Quote 5: I sometimes lament the fact that I do not have the benefit of a complete and ailment free body structure.
In Hindi: मुझे कभी-कभी इस तथ्य से दुःख होता है कि मेरे पास एक पूर्ण और निरोग शरीर नहीं है.
Amitabh Bachchan अमिताभ बच्चन
Quote 6: I did not resign from politics because of Bofors. I resigned because I do not know how to play petty politics. I did not know back then and I don’t know now either.
In Hindi: मैंने बोफोर्स की वजह से राजनीति नहीं छोड़ी . मैंने राजनीती इसलिए छोड़ी क्योंकि मैं तुच्छ राजनीतिक खेल खेलना नहीं खेलना नहीं जानता. मैं तब भी नहीं जानता था और अब भी नहीं जानता हूँ.
Amitabh Bachchan अमिताभ बच्चन
Quote 7: I have never really been confident about my career at any stage.
In Hindi: मैं कभी भी अपने कैरियर को लेकर आश्वस्त नहीं रहा हूँ.
Amitabh Bachchan अमिताभ बच्चन
Quote 8: I have never been a superstar and never believed in it.
In Hindi: मैं कभी एक सुपरस्टार नहीं रहा और कभी इसमें यकीन नहीं किया.
Amitabh Bachchan अमिताभ बच्चन
Quote 9: There are many things that I feel I have missed out on.
In Hindi:ऐसी बहुत सी चीजें हैं जो मुझे लगता है कि मैंने कई चीजें मिस कर दी हैं.
Amitabh Bachchan अमिताभ बच्चन
Quote 10: Basically I am just another actor who loves his work and this thing about age only exists in the media.
In Hindi: असल में मैं बस एक अभिनेता हूँ जो अपने काम से प्यार करता है और उम्र के बारे में ये सब बातें केवल मीडिया में पनपती हैं.
Amitabh Bachchan अमिताभ बच्चन
Quote 11: I’d love to romance Aishwarya Rai. But I’m 58 now. So I have to play her father.
In Hindi: मुझे ऐश्वर्या के साथ रोमांस करने में ख़ुशी होगी . लेकिन मैं अट्ठावन साल का हूँ. इसलिए मुझे उनका  पिता बनना होगा.
Amitabh Bachchan अमिताभ बच्चन
Quote 12: The amount of things I have been through and the remarkable ways in which the body has reacted is just phenomenal. No wonder I became religious, because you don’t know why something’s happening to you and you don’t know how you bounced back.
In Hindi: मैं जिन चीजों से गुजरा हूँ और जिस असाधारण तरीके से  मेरे शरीर ने प्रतिक्रिया की वह अद्भुत है. आश्चर्य नहीं की मैं धार्मिक हो गया, क्योंकि आप नहीं जानते कि आपके साथ कुछ चीजें क्यों हो रही हैं और आपको नहीं पता की आप कैसे बाउंस बैक करते हैं.
Amitabh Bachchan अमिताभ बच्चन
Quote 13: Everyone must accept that we will age and age is not always flattering.
In Hindi: हर किसी को स्वीकार करना चाहिए कि हमारी उम्र बढ़ेगी और उम्र का बढ़ना हमेशा प्रशंशापूर्ण नहीं होता.
Amitabh Bachchan अमिताभ बच्चन
Quote 14: The select group of people who do make realistic cinema, who do make cinema perhaps a little more acceptable to the Western audience, is a very small percentage.
In Hindi: जो थोड़े-बहुत लोग यथार्थवादी सिनेमा बनाते हैं, जो ऐसा सिनेमा बनाते हैं जो शायद पश्चिमी दर्शकों को अधिक स्वीकार्य है, वे बहुत कम हैं .
Amitabh Bachchan अमिताभ बच्चन
Quote 15: Indian actors, because of the format of our stories, need to be good actors, and be able to perform emotional sequences, do a bit of comedy, dance and singing, action, because all of this forms just one film.In many ways I’d say there are greater demands on Indian actors than there are on Hollywood.
In Hindi: हमारी कहानियों के स्वरुप की वजह से से भारतीय अभिनेताओं को अच्छा अभिनय आना ज़रूरी है, और उन्हें भावनात्मक दृश्यों, थोड़ी कोमेडी , नाचना- गाना, एक्शन आना चाहिए, क्योंकि ये सब एक ही फिल्म का हिस्सा होते हैं. मैं कहूँगा कि कई मायनो होलीवुड अभिनेताओं की तुलना में भारतीय अभिनेताओं से अधिक अपेक्षा होती है.
Amitabh Bachchan अमिताभ बच्चन
Quote 16: I don’t use any techniques; I’m not trained to be an actor. I just enjoy working in films.
In Hindi: मैं किसी तकनीक का प्रयोग नहीं करता; मैं अभिनय करने के लिए प्रशिक्षित नहीं किया गया. मैं बस फिल्मो में काम करना पसंद करता हूँ.
Amitabh Bachchan अमिताभ बच्चन

Amitabh Bachchan Dialogues From Hindi Movies

“ये  तुम्हारे  बाप  का  घर  नहीं , पुलिस   स्टेशन  है , इस  लिए  सीधी  तरह  खड़े  रहो .”जंजीर ( सलीम- जावेद )
“सौदा  करना  तो  आपको  नहीं  आता , आप  इस   बिल्डिंग  के  लिए  दस  लाख  भी  ज्यादा  मांग  लेते , तो  भी  मैं  खरीद लेता . यह  बिल्डिंग  मेरी  माँ  के  लिए  एक  तोहफा  है .” – दीवार (जावेद अख्तर  )
क्या देखता है…आइं….
“आज  खुश  तो  बहुत  होगे तुम …..जो  आज  तक  तुम्हारे  मंदिर  की  सीढियां   नहीं  चढ़ा  ….जिसने  कभी  तुम्हारे  सामने हाथ  नहीं  जोड़े  वो  आज  तुम्हारे  सामने  हाथ  फैलाये  खड़ा  है …….ये  तुम्हारी  जीत  नहीं  हार  है  हार ……हम  घर  से  बेघर  हो  गए ……मेरा  बाप  जीतेजी  मर  गया …..मेरी  माँ  सुहागन  होते  हुए  भी  विधवा  बनी  रही ….लेकिन  आज  तक  मैंने  तुमसे  कुछ  नहीं  माँगा ….” – दीवार (जावेद अख्तर  )
“ये   देखो  ये  वही  मैं  हूँ  और  ये  वही  तुम . आज  मैं  कहाँ  पहुच  गया  हूँ  और  तुम  कहाँ  हो . आज  मेरे  पास  बिल्डिंगें   हैं , गाडी  है , बैंक  बैलेंस  है …. तुम्हारे  पास  क्या  है …. क्या  है  तुम्हारे  पास !!” – दीवार (जावेद अख्तर  )
“हाँ , मैं  साइन  करूंगा , लेकिन  मैं  अकेले  साइन  नहीं  करूंगा , मैं  सबसे  पहले  साइन  नहीं  करूंगा .जाओ   पहले  उस  आदमी  का  साइन ले  के  आओ , जिसने  मेरा  बाप  को  चोर  कहा  था ; पहले  उस  आदमी  का साइन  ले  के  आओ  जिसने  मेरी  माँ  को  गाली  दे के  नौकरी  से  निकल  दिया  था ; पहले  उस  आदमी  का  साइन  ले  के  आओ  जिसने  मेरे  हाथ  पे  ये  लिख  दिया  था … उसके  बाद , उस  के  बाद , मेरे  भाई , तुम जहाँ कहोगे मैं वहां साइन करदूंगा  .” – दीवार (जावेद अख्तर )
“रिश्ते  में  तो  हम  तुम्हारे  बाप  लगते  हैं , नाम  है  शहेंशाह .”- शहेंशाह ( इन्दर राज )
“सही  बात  को  सही  वक़्त  पे  किया  जाये  तो  उसका  मज़ा  ही  कुछ  और  है , और  मैं  सही  वक़्त  का  इंतज़ार  करता  हूँ .”-त्रिशूल (जावेद अख्तर  )
“मैं  पांच  लाख  का  सौदा  करने  आया  हूँ , और  मेरे  जेब  में  पांच  फूटी  कौड़ी  भी  नहीं  है ! “-त्रिशूल (जावेद अख्तर  )
“जिसने  पचीस  साल  से  अपनी  माँ  को  थोडा  थोडा  मरते  देखा  हो , उसे  मौत का क्या  डर ?”-त्रिशूल (जावेद अख्तर )
“और   आप , Mr R K Gupta, आप  मेरे  नाजायज़  बाप  हैं . मेरी  माँ  को  आप  से  चाहे  ज़िल्लत  और  बेईज्ज़ती  के  सिवा  कुछ  ना  मिला  हो , लेकिन  मैं  अपनी  माँ , उसी  शांति  कि  तरफ  से  आपकी   सारी  दौलत  वापस  लौटा  रहा  हूँ . आज  आप  के  पास  आपकी   सारी  दौलत  सही , सब  कुछ  सही , लेकिन  मैंने  आप  से  ज्यादा  गरीब आदमी  आज  तक  नहीं  देखा . गुड  बाय , Mr R K Gupta.”- –त्रिशूल (जावेद अख्तर  )
“मूछें  हों  तो  नथ्थूलाल   जैसी  वरना  ना  हो.” – शराबी ( कादर खान )
“गोवर्धन  सेठ , समुन्दर  में  तैरने  वाले  कुओं  और  तालाबों  में डुबकी  नहीं  लगाया  करते  हैं .”-मुक़द्दर  का  सिकंदर (कादर खान)
“वक़्त  कि  बिसात  पे  किस्मत  ने  जो  मोहरे  बिछाए  थे , उनका  रुख  पलट  गया .”-कालिया (इन्दर राज आनंद आनंद)
“हम  जहाँ   पे  खड़े  हो  जाते  हैं , लाइन  वहीँ  से  शुरू  होती  है .”-कालिया (इन्दर राज आनंद )
“आपने  जेल  की  दीवारों  और  जंजीरों  का  लोहा  देखा  है , जेलर  साहब , कालिया  की  हिम्मत  का  फौलाद  नहीं  देखा .”-कालिया (इन्दर राज आनंद )
“बचपन  से  है  सर  पर  अल्लाह  का  हाथ , और  अल्लाह  रखा  है  मेरे  साथ , बाजू  पर  है  सात सौ  छियासी  का  बिल्ला , बीस  नंबर की बीडी  पीता  हूँ , काम  करता  हूँ  कुली  का  और  नाम  है  इकबाल .”- कुली (कादर खान )
“तुम्हारा  नाम  क्या  है , बसंती ?”- शोले (जावेद अख्तर)
“घड़ी – घड़ी  ड्रामा  करता  है , साला .”- शोले (जावेद अख्तर)
“…विजय चौहान, पूरा नाम  विजय  दीनानाथ  चौहान , बाप  का  नाम , दीनानाथ  चौहान , माँ  का  नाम , सुहासिनी  चौहान , गाँव  मांडवा  , उम्र  छत्तीस  साल नौ  महिना …8 दिन ..16 घंटा  चालू  है ….मालूम  !!! …”-अग्निपथ (कादर खान )
” ये  टेलीफोन   भी  अजीब  चीज़  है  — आदमी  सोचता  कुछ  है , बोलता  कुछ  है  और  करता  कुछ  है .”-अग्निपथ (कादर खान )
कंप्यूटर जी….लॉक किया जाए. – Kaun Banega Crorepat(KBC)
Powered by Blogger.