Weather (state,county)

आखिर ज़िन्दगी किस बारे में है ?

Bryce Courtenay (1933–2012) ऑस्ट्रेलिया के महान साहित्यकारों में गिने जाते हैं। उन्होंने 55 साल की उम्र से लिखना शुरू किया और अपने जीवन में 21 किताबें पब्लिश कीं जिनकी 2 करोड़ से अधिक प्रतियां बिकीं। उनकी सबसे ज्यादा पॉपुलर बुक थी, “The Power of One“.
Life is not about having things. It is about doing things.
Bryce ने 2007 में एक छोटी सी किताब लिखी थी “A Recipe for Dreaming” जिसमे उन्होंने कुछ बहुत ही ज़रूरी और सोचने पर मजबूर करने वाली बातें लिखीं थीं। उसी का एक अंश आज मैं आपके साथ शेयर कर रहा हूँ :
“Superannuation is what we get paid for being bored for thirty years.
It seems to me we’re obsessed with having things.  We put ourselves in debt for thirty years to own a house.  We work at thankless jobs we hate for thirty years to have sufficient money to retire with security and to die in absolute obscurity.
There is another way.  The idea is to dream up the things you want to do and make them happen.
Life is not about having things, life is about doing things.
Doing things has a rewarding result. 
You either make more money that you need without being bored in the process, or you discover that you don’t really need all that fiscal security to live happily ever after.
You also die smiling.”
“पेंशन वो चीज है जो हमें तीस साल तक बोर होने के लिए मिलती है। 
ऐसा लगता है हमारे ऊपर चीजों को इकठ्ठा करने का जूनून सवार है। हम एक घर करने के लिए खुद को तीस साल तक कर्ज में डाल देते हैं। हम तीस साल तक बेकार की नौकरियां करते रहते हैं जिनसे हम नफरत करते हैं , ताकि रिटायर होने के लिए हमारे पास पर्याप्त पैसा रह सके और हम पूर्ण अन्धकार में मर सकें।
एक दूसरा तरीका है। हम उन चीजों का सपना देखें जिन्हे हम करना चाहते हैं और उन्हें कर डालें।
ज़िन्दगी चीजों के होने के बारे में नहीं है , ज़िन्दगी चीजों को करने के बारे में है।
चीजों को करने से अच्छे परिणाम मिलते हैं ।
या तो आप बिना बोर हुए जितनी ज़रुरत है उससे अधिक पैसे कमाते हैं , या आप ये जान लेते हैं कि खुशहाली से जीने के लिए आपको इतनी आर्थिक सुरक्षा की ज़रुरत नहीं है।
और आप मरते भी हँसते हुए हैं। “
Friends, unfortunately, अधिकतर लोग पहले तरीके से ही ज़िन्दगी जिए जा रहे हैं … पर मेरी नज़र में बड़ी समस्या ये नहीं है , बड़ी समस्या ये है कि हम ज़िन्दगी जीने का अपना तरीका बदलने की कोशिश भी नहीं कर रहे … ये जानते हुए भी की हमारी ज़िन्दगी का बीता हुआ एक भी पल कभी लौट कर वापस नहीं आने वाला हम एक ऐसी life जिए जा रहे हैं जो हमारी ही नज़रों में बेकार है … कितनी अजीब बात है !! हम कुछ करते क्यों नहीं … हम इस तरह की बातें सुन कर थोड़ी देर के लिए excited तो हो जाते हैं पर फिर कुछ समय बाद सब कुछ भूल क्यों जाते हैं ?? क्या हमारी life important नहीं है ???… क्या हम बस यूँही इस दुनिया में exist करने के लिए आये हैं … क्या हमारी life का कोई मतलब नहीं है ??
I don’t know आप क्या सोचते हैं , पर मुझे लगता है कि हम सभी की life का कोई न कोई मकसद है … अगर हमें वो पता है तो ठीक नहीं तो हमें उसे ढूँढना होगा , हमें अपनी life का purpose जानना होगा या अपनी लाइफ को एक परपज देना होगा … हमें चीजों के पीछे भागना छोड़ना होगा और हमेशा ये याद रखना होगा कि Life is not just about having things, life is about doing things.
Powered by Blogger.