Weather (state,county)

Follow Up काम कराना है तो

शायद  आपने Aristotle का ये  कथन  सुना  होगा , “ मनुष्य  एक  सामजिक  प्राणी है .” ,” Man is a social animal”, सच ही  तो  है ..हम  सभी किसी  न  किसी  समाज  का  हिस्सा  हैं  , और  अपनी  life normally जीने  के  लिए  इस  समाज  के  अन्य  लोगों  पर  depend करते  हैं .
 और ये dependency हर stage  पे   होती   है , चाहे  हम  5 साल  के  हों  या  पच्चीस   साल  के ..हमें अपना  काम  करने  के  लिए  दूसरों  की  मदद  की ज़रुरत  पड़ती  ही पड़ती  है .
 हम कोई भी हेल्प directly लेते हैं या indirectly.
For instance: अगर  आप  एक  अच्छी  सी  job की  तालाश  में  हैं  और  अपने  किसी  दोस्त  से  उसकी  company में  interview arrange कराने  के  लिए  कहते  हैं  तो  ये  direct form of help हुई .
एक  दूसरे  case में  आप  जानते  हैं  की  आपके  दोस्त  के  भैया  किसी  multinational company में  काम  करते  हैं  और  आप  उस  दोस्त  से अपनी  CV उसके  भैया  को  forward करने  को  कहते  हैं , तो  ये  एक  indirect form of help हुई .
यानि  अगर  DOER (जो  actually आपका काम  करता  है  ) आपसे  directly related है  तो  help direct हुई , और  अगर  indirectly related है  तो  indirect हुई .
 Definitely, help लेने -देने  से  related आपके  बहुत  सारे  personal experiences होंगे . पर  ज्यादातर  लोग  agree करेंगे  कि बहुत  बार  वो  कोई  काम किसी  से  कहते  हैं  पर  वो पूरा नहीं  होता है . For example: आपने किसी  दोस्त  से  एक  महीने  पहले  आपके  लिए  मकान  ढूढने  के  लिए  कहा  पर  उसने  कोई  effort नहीं  किया . या  ऊपर  लिए  job वाले   example में  job interview के  लिए  कोई  call ही  नहीं  आई .
 ऐसा क्यों होता है की आपको expected help नहीं मिल पाती .?
दरअसल , ये  human nature होता  है  कि  जो  चीज  हमसे  directly related नहीं  होती  हम  उस  पर  अधिक  ध्यान  नहीं  देते . इसलिए  जब  आप  कोई  काम  किसी  को  देते  हैं  तो  वो  व्यक्ति  sincerely उस  काम  को  करने  में  interest दिखता  है  पर  कुछ  ही  समय  बाद वो  उसके  mind से  गायब  हो  जाती  है , and most of the time वो  जान  –बूझ  कर  ऐसा  नहीं  करता  ,वो तो बस अपने routine work  में मशगूल हो जाता है और आपका काम भूल जाता है.
 तो  क्या  करें  कि  काम  पूरा  हो  जाये  या  at least उसके  होने  के  chances बढ़  जाएं ?
ये  बिलकुल  सीधा  और  आसान  है  – FOLLOW UP करें .
यानि   आपने  जो  काम  सौंपा  है  उसके  बारे  में  फिर  से  पूछें , doer को remind कराएं .
और  चाहे  आप  directly help ले  रहे  हों  या indirectly दोनों  ही  cases में  काम  पूरा  हो  इसके  लिए  follow- up ज़रूरी  है.
No Follow up Vs  Follow up
जब  आप  अपनी  help की  request के  बाद  कई  दिनों  तक  follow up नहीं  करते  हैं , तो doer आपका काम भूल जाता है, या  even अगर  उसे  याद  रहता  है  तो  भी  वो  ऐसा  सोच  सकता  है  कि  may be आपने  येही  request और  लोगों   से  भी की  होगी  और  आपका  काम   हो  चुका  होगा .
और  जब  आप  follow up करते  हैं  तो  वह  सामने  वाले  के  लिए  सिर्फ  एक  reminder ही  नहीं  होता , बल्कि  वो   आपकी  sincerity को  भी  दर्शाता  है . और  इस  बात  को  emphasize करता  है  कि  आप  उस  व्यक्ति  पर  सचमुच  बहुत  depend कर रहे  हैं , और  तब  वो  थोडा  serious हो  जाता  है , और  आपके  काम  को  importance देने  लगता  है . और इससे एक और चीज होती है , अगर doer  के सामने आपसे related कोई opportunity आती है तो तुरंत उसका mind  strike  करता है कि ये आपके लिए useful  हो सकत है , और वो आपको inform  कर देता है , वहीँ अगर आप touch  में नहीं होते हैं तो opportunity  यूँही निकल जाती है .
Help लेते समय  किन बातों का ध्यान रखें  :
•              Help तभी लें  जब  आपको  genuinely उसकी  need हो .
•              Help लेते  समय   गंभीरता  दिखाएं  , low  sounding  sentences  ना कहें , जैसे कि  , “ देखिएगा  ,…हो  जाये  तो  ठीक  है  ….” या  फिर ….” और  लोगों  से  भी  कहा  है …time मिले  तो  आप  भी  देख  लीजियेगा ”,. Etc…ऐसा कहते ही आपको help मिलने  के  95% chances ख़त्म  हो  जायेंगे .
•              ऐसे  sentences का  use करें , “ Please पूरी  कोशिश  कीजियेगा , I really need your support”  या   “ ये  काम  होना  मेरे  लिए  बहुत  ज़रूरी  है ,  मैं  हमेशा आपका आभारी  रहूँगा ” ,etc
•              जिससे  भी हेल्प ले रहे हों , उसे कम ना आंकें उसकी respect  करें,  हम अक्सर लोगों को उपरी तौर पर ही जानते हैं, किसके क्या कॉन्टेक्ट्स हैं , relations  हैं ये बता पान मुश्किल होता है .
•              आप  उस  person की  contact details अच्छे  से  save कर  लें , mobile no, email id,  and most importantly उसका  नाम , कई  बार  लोग  बस  इसलिए  follow up नहीं  कर  पाते  क्योंकि  उन्हें  बन्दे  का   नाम  ही भूल जाता है .
•              यदि  आप  indirect help ले  रहे  हैं  तो  भी  आप    DOER की  contact details, etc ले  लें .
•              Indirect help लेते  वक़्त  भी  आप  follow up के  लिए  अपने  direct contact पर  depend मत  रहिये , खुद  ही  ये  काम  कीजिये . इससे  दो  फायदे  होंगे , पहला  आपका  direct contact कोई  burden नहीं  feel करेगा  ( remember s/he too is busy and you should respect his/her time) और  दूसरा  DOER आपके  काम  को  lightly नहीं  लेगा .
•              काम  हो  जाने  पर  न  सिर्फ  उस  व्यक्ति  को  thanks करें  जिसने  काम  कराया  बल्कि  उन  सबको  भी  जिन्होंने आपके लिए  try किया . और  indirect help के  case में  Doer और  अपने  Direct contact दोनों  को  thanks करना   ना भूलें .
Follow up में किन बातों का ध्यान रखें ?
•              Directly phone करने  से  बेहतर  होगा …पहले  email करना , अगर  जवाब  न  मिले  तो  sms करना , और  अगर  तब  भी  answer न  आये  तो  phone करना . वैसे ये बहुत हद्द तक आपकी doer से कैसी रिलेशन है पर depend करेगा.
•              अपने  काम  के  लिए  रोज़  रोज़  न  फॉलो अप   करें , इससे  व्यक्ति  irritate हो  सकता  है , रोज़ रोज़ order देने वाले follow up कर सकते हैं request करने वाले नहीं ! अगर  urgency बहुत  अधिक  न  हो  तो  हफ्ते  में  एक  बार  would be enough.
•              Follow up में बहुत  अधिक  gap भी  न  रखें  at least once in 10 days ज़रूर  remind करें .
•              Odd time पर  न  disturb करें  , specially acquaintances को ,  बात  करने  से  पहले  पूछ लें  कि  क्या  अभी  बात करने का सही समय है  ?
•              Doer को  बात – बात  में  ये  बता  दें  कि  आप  एक -आध   हफ्ते  में  फिर  से  contact करेंगे , ऐसा  करने  से  उसपर  थोडा  सा  प्रेशर  आएगा , and s/he may put some more efforts. साथ ही जब next time आप कॉल करेंगे तो उसे odd नहीं लगेगा.
•               धैर्य बनाये रखें. It takes time.
Friends ,  human  mind के  दो  part में divide  कर सकते  हैं  conscious और  sub-conscious. Conscious को  आप  computer की  Random Access Memory (RAM)  कह  सकते  हैं  और  subconscious को  Hard disk (HD) (data storage device) . जब  हम किसी  को  काम  कहते  हैं  तो  वो  पहले  RAM में  जाता  है  और  कुछ  समय  बाद  HD में  चला  जाता  है ….अगले  कुछ   दिन  तक  ऐसा  चलता  है  आपका  काम  RAM से  HD और  HD से  RAM में  load होता  रहता  है …पर  दो-तीन  दिन  बाद  वो  HD में  ही  रह  जाता  है  और  RAM तक  नही  पहुँच पाता …पर  जैसे  ही  आप  follow up करते  हैं  वो  दुबारा  RAM में  आना  शुरू  हो  जाता  है …और  अगर  Doer से  काम  कराना  है  तो  काम  को  RAM में  लाना  ही  होगा …इसलिए  बस  इतना  याद रखिये  कि  काम  कराना  है  तो  simply follow up.
Powered by Blogger.