Weather (state,county)

ना बढ़ें आगे असफ़ल होने के लिए

असफल होने  से  मेरा  मतलब  है  की  आप  वो  नहीं  कर  पाते  हैं  जो  आप  करना  चाहते  हैं . For e.g अपना  कोई  business start करना  चाहते  हैं , एक successful  actor, chef , choreographer, fashion designer, social activist  , या  फिर  कुछ  और  बनना  चाहते  हैं ; लेकिन बन नहीं पाते.
और  आगे बढ़ने  से  मेरा  मतलब  है  आप  society की  नज़रों  में grow करते   जाते  हैं …. आप  अच्छी  designation पर पहुँच  जाते  हैं , अपने  लिए  गाड़ी -बंगला  खरीद  लेते  हैं  और  ऐसी  ही अन्य  materialistic चीजें  जुटा  लेते  हैं .
Friends, हममें से  बहुत  से  लोग  किसी  न  किसी  सपने  के  साथ  जीते  हैं  की  हम  आगे  चल  कर  कुछ  बड़ा  करेंगे , कुछ  महान  करेंगे ,  पर  किसी  न  किसी  वजह  से  उन  dreams को  postpone करते  जाते  हैं  और  life जिस  flow में  चल  रही  है  उसी  flow में  आगे  बढ़ते  चले  जाते  हैं ….हम  पढाई  पूरी  करते  हैं , किसी  नौकरी  या  business में  लग  जाते  हैं , चाहे  वो  हमारे  मन  का  हो  या  नहीं ….और  फिर  उसी  में  grow करने  लगते  हैं ….पैसे  कमाने  लगते  हैं , और  जब पैसे  आते  हैं  तो  हम  उन्हें  सही  जगह  invest करने  के  बारे  में  सोचने  लगते  हैं ; as a result कुछ  ही  सालों  में  हमारे  पास  ऐशो  आराम  की  ढेर  सारी चीजें  हो  जाती  हैं . कुछ  हमने  down payment पे  ली  होती  हैं  तो  कुछ  EMI पर . ज़िन्दगी  यूँही  चलती  जाती  है  पर  जब  आप  थोडा  settle हो  जाते  हैं  तो  आप अपनी  life में  एक  void एक  खालीपन  महसूस  करने  लगते  हैं …सब  कुछ  होते  हुए  भी  आप  satisfy नहीं  हो  पाते  और  एक  बार  फिर  आपको  लगता  है  की  अपने  दिल  की  सुनी  जाये …अपने  सपनो  का पीछा किया  जाए ;….इतने  दिनों  तक  ignore करने  के  बाद  भी  वो  सपने  मरते  नहीं   क्योंकि  उसका  बीज  आपके  भीतर  ही  कहीं  होता  है , और जब उसे आपका attention मिलता है तो वो फिर से पनपने लगता है ! और आप  एक  बार  फिर  उन  सपनो  को  पूरा  करने  के  लिए  बेचैन हो जाते हैं …ideas  सोचते  हैं , प्लान  बनाते  हैं ..पर  in most of the cases ये  plans ये  ideas धरे  के धरे  रह  जाते  हैं …
ऐसा क्यों होता है ?
क्योंकि  आपकी  risk taking capacity बहुत  कम  हो  चुकी  होती  है ….अब  आप  एक  अलग  standard of living or life style के  आदि  हो  चुके  होते  हैं , आपकी  liabilities बढ़  चुकी  होती  हैं , आप  अपनी  job छोड़ने  या  अपना  business change करने  का  खतरा  नहीं  उठा  पाते  , आप  खुद  को  ऐसी  जगह  पाते  हैं  जहाँ  एक  महीने  भी  खाली  बैठना  impossible लगता  है !! और  यही  आपका  FAILURE बन  जाता  है . अब  आपको  अनचाहे  मन  से  उसी  काम  में  खुद  को  लगाए  रखना  पड़ता  है  जो  आपको  पैसे  तो  देता  है  पर  संतोष  नहीं  दे  पाता और ज्यादातर  cases में न पर्याप्त पैसे दे पाता है और ना ही संतोष.  .
तो  क्या  करना  चाहिए ?
यदि  आप  अभी  तक  इस  तरह  की  condition में  नहीं  फंसे  हैं  तो  आप  इन  बातों  को  ध्यान  में  रखिये :
1)      उस  काम  में  grow करने  की  कोशिश  न  करें  जिसे  आप  दिल  से  like नहीं  करते .  और  भले  ही  हम  अपना  passion ना  जान  पाएं  पर  ये  जानना  आसान  होता  है  की  हम  क्या  like नहीं  करते . इसलिए  ऐसे  काम  में  succeed होना  जिसे  आप  like  ही  नहीं  करते  बेकार  है . For e.g आप  किसी  sales  and marketing job में  हैं  और  ये  काम  आपको  पसंद  नहीं है तो  आप  इस  job में  promotion पाने  के  लिए  काम  मत  करिए , बस  job चलाने  के  लिए  काम  करिए . ये थोडा मुश्किल है , पर आपको ये करना होगा , क्योंकि  जो  काम  आपको  पसंद  नहीं  उससे  पैसा  कामाने  की आदत  डालना  आपको  असफल  कर  सकता है .
2)      जब  तक  आप  अपने  मन  का  काम  नही  पा  जाते  तब  तक  कुछ  ऐसा  करने  की  कोशिश  कीजिये  जो  आपको  अधिक   से  अधिक  free time दे  सके . और  इस  free time को  आप  अपने  goals achieve करने  में  लगाइए .
3)      अपनी  liabilities को  limited रखिये , ख़ास  तौर  से  कोई  ऐसा  loan मत  लीजिये  जिसकी  EMI भरने  के  लिए  आपको  अपने  काम  में  लगे  रहना  मजबूरी  बन  जाए . ऐसे  loans लेना  तभी  ठीक  होगा  जब  पैसा  आपके  मन  के  काम  से  आ  रहा  हो .
4)      अपने  real interest और  liking को  explore करते  रहिये , और  जहाँ  तक  हो  सके  उस  दिशा  में  कुछ  steps लेने  की  कोशिश  कीजिये . भले  ये  steps बहुत  ही  छोटे  क्यों  न  हों , पर  इतना  निश्चित  है  की  हर एक  step आपको आपकी  मंजिल  के  करीब  ले  जायेगा .
क्या  करें  अगर  already ऐसी  condition में  पहुँच  चुके  हों ?
It means अब  आपके  लिए  आपकी  जॉब  या  जो  काम  आप  कर  रहे  हैं वो  करना  मजबूरी  बन  चुकी  हो , क्योंकि  इसको  छोड़ने  का  मतलब  एक  निश्चित  financial crisis है .  ऐसे  में  क्या  करना  चाहिए ???  Frankly telling, मुझे  नहीं  पता  की  ऐसे  में  क्या  किया  जा  सकता  है ….बताने  को  तो  मैं  कई  चीजें  लिख  सकता  हूँ , पर  मेरी  हमेशा  यही  कोशिश  होती  है  की  मैं  ऐसे  ideas share करूँ  जो  practical हों , जिन्हें आप सचमुच  apply कर  सकें .  हाँ , एक  approach शायद  कुछ  cases में  काम  कर जाये ….आप  जो  करना  चाहते  हैं  उसे  Virtually करिए .
Of course इसकी  limits हैं  और  हर  काम  इस  तरह  से  नहीं  किया  जा  सकता , पर  in case आपका  goal  इस तरह से achieve किया  जा  सकता  है  तो  आप  try कर  सकते  हैं .
Virtually करने  का  मतलब ?
It means, आप  internet का  use  करते  हुए  अपने  मन  का  काम  करिए .  इसके  लिए  आपको  अपने  interest से  related website / blog बनाना  या  बनवाना  होगा.
For instance, अगर  आप  एक  Chef बनना  चाहते  हैं  और  अभी  किसी  IT जॉब  में  फंसे  हुए   हैं  तो  आप  एक  Food blog बनाइये  और  उसपे तरह – तरह  की  recipe और  कुकिंग-टिप्स  post करिए . अगर  आप  अपनी  Travel Company शुरू  करना  चाहते  हैं  तो  travel related blog बनाइये …and  so on.
इससे  क्या  फायदा होगा ?
  • आप  घर  बैठे  अपने  interest से  related field में  कुछ  progress कर  पायेंगे . और  चूँकि  इस  काम  को  आप  कहीं  भी  और  कभी  भी  कर  सकते  हैं  इसलिए  इसके चलते रहने और आगे बढ़ने  के  chances कहीं  अधिक  हैं .
  • आपकी  us  field में  knowledge बेहतर  होती  जाएगी . और  अगर  कभी  future में  आप  physically ऐसा करना  चाहेंगे  तो  ये  knowledge बहुत  काम आयेगी .
  • लगातार  blog पर  काम  करने  से  आपको  कई  लोग  जानेंगे  और  हो  सकता  है  यहीं  से  कोई  opportunity निकल  आये  जो  आपको  आपके  interest से  related एक  well-paying opportunity दिला  सके .
  • आपका  blog आपको  एक  alternate source of income भी  दे  सकता  है  जो  ultimately आपकी  liabilities को  कम  करने  में  मददगार  होगा .
 Friends, मैं  lucky हूँ  की  समय  रहते  मेरे अन्दर ये समझ आ गयी कि  अपने दिल का काम find  करने से पहले materialistically  expand करना बेवकूफी है ; आप भी  जब  तक  उस  काम  से  पैसा  नहीं  कमाने  लगते  जिसको  लेकर  आप  passionate हैं तब तक  खुद  को expand करने से रोकिये. George Burns  ने कहा भी है कि  जिस  चीज  को  आप  चाहते  हैं  उसमे  असफल  होना  जिस  चीज  से  आप  नफरत  करते  हैं  उसमे  सफल  होने  से  बेहतर  है .
आप  चाहे  जैसी  condition में  हों …surrender मत  कीजिये ….अपने  लक्ष्य  को  पाने  के  लिए  लड़ते  रहिये … boxing match की  तरह  ज़िन्दगी  के  खेल  में  भी  हारता  वो नहीं  जो  गिर  जाता  है  , हारता  वो  है  जो  उठने  से  इनकार  कर  देता  है …आप  भी  चाहे  जितनी  बार  गिरें  हार  मत  मानिए  , उठिए  और तमाम मुश्किलों के बावजूद  अपना  लक्ष्य  प्राप्त  कीजिये .
All the best!
Powered by Blogger.