Weather (state,county)

जी हाँ ! सपने सच होते हैं

जो  खुद  बड़े  सपने  नहीं  देखते  वे generally दूसरों  के  बड़ो  सपनो  को  भी  नहीं  समझ  पाते . अगर  आप  भी  अपने  किसी  सपने  को  साकार  करने  में  लगे  हैं  तो  इस  बात  के  लिए  तैयार  रहिये  की  आपको  एक  encourage करने  वाले  तक  पहुँचने  से  पहले  दस  discourage करने  वालों  को  face करना  होगा .
जब  आप  अपने  dreams को  लोगों  से  share करेंगे  , ख़ास  तौर   पर  ऐसे  dreams जो  लीक  से  हटकर  हों  तो  ज्यादातर  लोग  आपकी  ideas पर  doubt करेंगे …और   अपने  तर्कों  -कुतर्कों   से  उसे वहीँ  kill करने  में   लग  जायेंगे … and mind you most of the times वे  ऐसा  intentionally नहीं  करते , उनमे  से  कुछ  तो  इस  तरह  programmed होते  हैं  कि  जब  कोई  चीज  सामने  आती  है  तो  उसे  कमियां  निकालने  के  मकसद  से  देखते  हैं ; और  बाकी  कुछ  नया  करने  के  जोखिम  से  डरते  हैं ; इसलिए  उन्हें  अजीब    लगता  है कि जब वे डरते हैं तो औरों को भी डरना चाहिए, उन्हें आपका ना डरना अस्वाभाविक लगता है और वो आपको oppose करते  हैं ताकि आप भी स्वाभाविक हो जाएं  . And generally ये  हमारे  करीबी  लोग  ही  होते  हैं , वे  हमें  मानते  हैं  और  हमें  सफल  होते  भी  देखना  चाहते  हैं , पर  उनके  दिमाग  में  सफलता  का  जो  model defined है  वो  आपके  प्लान  से  match नहीं  करता  और  शायद  इसीलिए  वो  जाने – अनजाने   आपको  discourage करने  लगते  हैं .
क्या  ऐसे  लोगों  को  कोई  importance नहीं  देनी  चाहिए  ?
नहीं , ऐसा  नहीं  है , मेरा  तो  मानना  है  कि   जब  आप  starting phase में  हों  तो  discourage करने  वाले  लोग  encourage करने  वालों  से  अधिक  महत्तव  रखते  हैं . I think आपको  इसे  एक  challenge के  रूप  में  देखना  चाहिए …जब  आप  ऐसे  लोगों  को  convince करने  की  कोशिश  कर  रहे  होते  हैं  तो  दरअसल  आप  खुद  को  ही  और  कन्विंस  करने  में  लगे  होते  हैं  कि   हाँ  what I am going to do can be done…. इसकी  चिंता  मत  करिए  कि  सामने  वाला  convince हुआ  की  नहीं  चिंता  इसकी  कीजिये  कि   आपका  इरादा  कमजोर तो  नहीं पड़ा  ….   आप  अभी  भी  आगे  बढ़ने  को  ready हैं  कि  आप  अभी  भी  risk लेने  को  तैयार  हैं …
एक  anecdote है …जब  एक  salesman से  किसी  ने  कहा  कि   तुम  यहाँ  जूते  कैसे  बेचोगे , यहाँ  तो  कोई  जूते  पहनता  ही  नहीं  तो  salesman की  आँखें  चमक  गयीं … “wow! इसका  मतलब  मैं  यहाँ  हर किसी को  जूते  बेच  सकता  हूँ ….”
लोग  आपके  plans में  कमियाँ  निकालेंगे  ही  पर  अगर  आप  अपने  idea को  लेकर  determined हैं  तो  वे  आपको  पीछे  नहीं  धकेल  पायेंगे …और  अगर  वे  ऐसा  कर  लेते  हैं  तो  उनके  शुक्रगुजार  रहिये …. क्योंकि  अगर  आप  उनके  logic भर से  doubt में  आ गए  तो  reality में  वो  काम  करने  में  तो  उससे  कहीं  अधिक  चैलेंजेज  आते …तब  आप  क्या  करते ??
तो  क्या  इसका  मतलब  मैं  हार  मान  लूँ ?
Nooo, आप  अपने idea को drop करके  किसी  और  से  नहीं  आप  हारे  क्योंकि  कहीं  न  कहीं  आप  खुद  अपने  plan को लेकर   convinced नहीं  थे …अब  एक  बार  फिर  आपको  खुद  को  convince करना  होगा …आपको  existing plan में  कुछ  change करना  होगा  या  एक  नया  सपना  देखना  होगा …हाँ  अगर  आपको  अपने  पहले  plan में  सचमुच  खामियां  नज़र  आ जाती  हैं  तो  उसे  ढोने  की  ज़रुरत  नहीं  कि  …मैंने  ऐसे -ऐसे  सोचा  था  और  सबसे   बता  भी  दिया  है  अब  तो  करना  ही  पड़ेगा , ये  जानते  हुए  भी कि  मैं  खुद  इससे  convinced नहीं  हूँ फिर भी  मुझे  करना  होगा …NO you  don’t have to…ऎसी गलती  कभी  मत  करिए halfheartedly कोई  काम  मत  शुरू  करिए …as a human being आपमें  infinite potential है …किसी  भी  क्षण  आप  कोई  भी  नया  सपना  बुनने  और  उसे  साकार  करने  का  माद्दा  रखते  हैं …so why waste your ability…कुछ  नया  सोचिये , एक  बार फिर   जोश  से  भर  जाइये  और  एक  नए  सपने के  साथ  दुनिया के सामने खड़े हो जाइये!!
और  अगर  मैं  लोगों  के  discourage करने  के  बावजूद  हार  नहीं  मानता  तो  ?
तो  आप  बधाई  के  पात्र  हैं …. Congratulations :)…. आपने  वो  stage पार  कर  ली  है जिसपर 90% लोग  अटक  जाते  हैं …यहाँ  पहुँचने  का  मतलब  आपने  अपने  self-doubts clear कर  लिए  हैं , आपने  खुद  को  और  भी  convince कर  लिया  है  कि  Yes I can do it! अब  आप  discourage करने  वाले  लोगों  से  दूरी  बना  लीजिये ….इन्हे  तो  आप  already हरा  चुके  हैं … अब  तो  बस  आगे  बढ़ना  है  अपने  सपनो  को  साकार  करना  है .
मैंने  भी  जब  AchhiKhabar.Com (AKC) शुरू  किया  था  तो   बड़े  excitement के  साथ  अपने plans लोगों  को  बताता  था …पर  बहुत  कम  ही  वो  excitement reciprocate होती  थी …ज्यादातर   लोग  Hindi blog  के  future को  लेकर  doubtful ही  रहते  थे …और  जब  starting months में  बस  चालीस – पचास  page views per day होते  थे   तो  भी  मुझे  कुछ  करीबी  लोगों  से  अपना  प्लान  change  करने  की  सलाह  मिली …but as you know…I didn’t give up , मैं  लगा  रहा  और  आज  AKC पर  चालीस  – पचास  हज़ार  page views per day होते  हैं. :)
Friends, आप  जो  भी  कर  रहे  या  करने  का  सोच  रहे  हैं , आपको  उससे  तबतक  पीछे  हटने  की  ज़रुरत  नहीं  है  जब  तक  आप  इस  बात  से  convinced हैं  कि   आप  value create कर  रहे  हैं  …आप  कुछ  ऐसा  कर  रहे  हैं  जो  औरों  की  life आसान  बना  रहा  है !  हो  सकता  है  इसके  बावजूद  आपको  results मिलने में समय लगे  …पर  अगर  आप  डंटे   रहेंगे  तो  आपको  results ज़रूर  मिलेंगे …कई  businesses में  तो  break-even point  ही  एक  साल  बाद  आता  है ; यानि  no profit no loss पर  पहुँचने  में  1 साल  लग  जाता  है …so be patient…लगे  रहिये …और चाहे जितनी भी problems क्यों न आ जाएं सपने देखना मत छोडिये…क्योंकि  सपने  सच  होते  हैं !
All the best. :)
Powered by Blogger.