Weather (state,county)

Duniya Shayari mix collection दुनिया पर शायरी संग्रह

यलगार बहुत है,
दुनिया मेरे जख़्मों की तलबगार बहुत है !!

वादे तमाम रखो दुनिया से मगर,
रूह का करार बस मेरे नाम लिखना।

ग़म-ए-हयात का झगड़ा मिटा रहा है कोई
चले भी आओ कि दुनिया से जा रहा है कोई !!

Duniya Shayari in Hindi
सैर कर दुनिया की ग़ाफ़िल ज़िंदगानी फिर कहाँ,
ज़िंदगी गर कुछ रही तो ये जवानी फिर कहाँ !! – मीर दर्द

मरीज़-ए-ख़्वाब को तो अब शिफ़ा है,
मगर दुनिया बड़ी कड़वी दवा थी !!

ग़म-ए-दुनिया भी ग़म-ए-यार में शामिल कर लो
नशा बढ़ता है शराबे जो शराबो में मिले !!

कहने को बहुत कुछ था अगर कहने पे आते,
दुनिया की इनायत है कि हम कुछ नहीं कहते !!

दुनिया न जीत पाओ तो हारो न आप को
थोड़ी बहुत तो ज़ेहन में नाराज़गी रहे !!-निदाफ़ाज़ली

Duniya Shayari in Hindi
दिल के हाथों कहीं दुनिया में गुज़ारा न रहा,
हम किसी के न रहे कोई हमारा न रहा !!

रूह की सिलवटों से सिलसिले बन गए,
अपना बस यूँ ही दुनिया में आना जाना रहा।

उसको फुर्सत ही ना मिली दुनिया की उलझनों से,
हम ख़्वाबों में भी बस इंतज़ार करते रहे।

इक सिर्फ़ हमीं मय को आँखों से पिलाते हैं
कहने को तो दुनिया में मयख़ाने हज़ारों हैं!!-शहरयार

दुनिया ने किस का राह-ए-फ़ना में दिया है साथ
तुम भी चले चलो यूँ ही जब तक चली चले !!

बड़ी ”’ज़ालिम”’ निहायत बेवफ़ा है
ये दुनिया फिर भी कितनी ख़ुशनुमा है

Duniya Shayari in Hindi
अपनी लिखी गज़ले,आखिर अब किस को सुनाएँ
मेरी दुनिया,रोटी को लैेला और सब्जी को हीर समझे

किस जहाँ में मिलेंगे नाजाने हम,
इस जहाँ में तो वो दुनिया का हुआ।

इस रंगीन दुनिया में बेरंग सी सूरत है मेरी,
लोग मुझे कभी उजाला तो कभी अँधेरा बुलाते हैं।

मैं दिल हूँ मुझे बस धड़कने दो,
दुनिया की कहकहों मुझको लेना भी क्या।
हार जीत का फ़लसफ़ा तो दुनिया ने बनाया है,
मेरे दानिस्त में तो हर इल्म साजा करना है।

बेनक़ाब सीरत नहीं मिलती है दुनिया में,
हर किसी की कोई ना कोई सूरत तो होती है।

ज़ोर और ज़ब्र से हासिल नहीं हुयी अब तक,
ये दुनिया मेरे मुक़ाबिल नहीं हुयी अब तक.!!

Duniya Shayari in Hindi
अल्फ़ाज़ तो हैं ज़ज़्बात नहीं,
ये दुनिया भी बस तमाशा भर है।

दस्तूर दुनिया का कुछ ऐसा ही है,
जख्म उसी को दिया जाता है, जिसे सहना आता है।

वो ज़हर देता तो दुनिया की नज़रों में आ जाता,
सो उसने यूँ किया के वक़्त पे दवा न दी !!

मार ही डाले जो बे-मौत ये वो दुनिया है
हम जो ज़िंदा है तो जीने का हुनर रखते हैं

लम्हे-लम्हे की सियासत पे नज़र रखते हैं,
हमसे दीवाने भी दुनिया की खबर रखते हैं

ख़फ़ा है हमसे ये दुनिया हमारा है क़ुसूर इतना
समझदारी से हम कुछ पल सुहाने ढूँढ़ लेते हैं

ग़म-ए-दुनिया भी ग़म-ए-यार में शामिल कर लो
नशा बढ़ता है शराबें जो शराबों में मिलें

Duniya Shayari in Hindi
उलट जाती हैं तदबीरें, पलट जाती हैं तक़दीरें,
अगर ढूँढे नई दुनिया तो इन्सां पा ही जाता है !! –~फ़िराक़

खुश हैं बहुत दिल दुःखा के मेरा,
मेरे अपने भी अब तो दुनिया में शुमार हैं।

बेहतर तो है यही के न दुनिया से दिल लगे,
पर क्या करें जो काम न बे-दिल्लगी चले !! – ज़ौक़

दुनिया ने किस का राह-ए-फ़ना में दिया है साथ,
तुम भी चले चलो यूँ ही, जब तक चली चले !! – ज़ौक़

एक पल की पलक पर है ठहरी हुई ये दुनिया
एक पल के झपकने तक हर खेल सुहाना है !!- ~साहिर

ज़िंदगी हसीन वहमों के सिवा कुछ भी नही,
दुनिया ने इसे ही उम्मीद नाम दे रखा है!!

Duniya Shayari in Hindi
बड़े वसूक़ से दुनिया फरेब देती है,
बड़े खुलूस से हम ऐतबार करते हैं …

लोगो भला इस शहर में कैसे जिएंगे हम जहां
हो जुर्म तन्हा सोचना लेकिन सज़ा आवारगी
~मोहसिन नक़वी

सारी रौनक़ तेरे होने के यक़ीं में है निहाँ,
तू न होता तो भला काहे को दुनिया होती !!

अपनी दुनिया आप पैदा कर अगर जिन्दो में है,
सर्र-ए-आदम है, ज़मीर-ए-कुन फिकन है ज़िंदगी !!

बाज़ीचा-ए-अतफ़ाल है दुनिया मेरे आगे,
होता है शब-ओ-रोज़ तमाशा मेरे आगे !! 🙂

इस दर्द की दुनिया से गुजर क्यूं नहीं जाते
ये लोग भी क्या लोग हैं मर क्यूं नहीं जाते!

इक तेरी दीद छिन गयी मुझ से
वरना दुनिया में क्या नही बाकी

छोङ दुनिया की सारी झंझट को
आ मेरे दिल पे हुक्मरानी कर!

Duniya Shayari in Hindi
मेज़ाजे दुनिया से जंयू आसना होता जा रहा हूँ ~
~मैं तन्हा आैर तन्हा आैर तन्हा होता जा रहा हूँ!

यही दुनिया है तो फिर ऐसी ये दुनिया क्यों हैं
यही होता हैं तो आखिर यही होता क्यों है.!!

सारी दुनिया तेरे जिम्मे,दुनिया की हर चीज़ तेरी
मुझ को तो बस इक मेरे क़िरदार की तू रखवाली दे.!!

दुनिया में वही शख्स है ताज़ीम के क़ाबिल
जिस शख्स ने हालात का रुख मोड़ दिया हो.!!
अगर यही तेरी दुनिया का हाल है या रब
तो मेरे क़ैद भली है मुझे रिहाई न दे.!!

बड़े अजीब से आज-कल इस दुनिया के मेले हैं
दिखती तो भीड़ है लेकिन,चलते सब अकेले हैं.!!
ज़िक्र जब होगा मुहब्बत में तबाही का कहीं
याद हम आयेंगे दुनिया को हवालों की तरह

जब दोस्तों की दोस्ती है सामने मेरे
दुनिया में दुश्मनी की मिसालों को क्या करूँ

दुनिया में हूँ दुनिया का तलबगार नहीं हूँ
बाज़ार से गुज़रा हूँ,खरीददार नहीं हूँ.!!

जिसे डर से दुनिया के दफ़ना दिया
वो अरमान फिर भी मचलता रहा.!!

हमने ख़ामोश बना रक्खी है,दिल की दुनिया
कोई आवाज़ उभरती है,दबा देते हैं.!!

इश्क़ को भूल के जन्नत की है दुनिया को तलाश
इश्क़ की आग़ जो दोज़ख है तो जन्नत क्या है.!!

मेरी हर बात से उन्हें उल्फ़त है,मग़र मुझसे नहीं
दुनिया के खुश-नसीबों में,सब से बद-नसीब हूँ मैं

कभी सरकार पे, क़िस्मत पे, कभी दुनिया पे
दोष हर बात का औरों पे हि डाला मैंने.!!
अगर है झूट पे क़ायम निज़ाम दुनिया का
तो फिर जिधर है ज़माना उधर न जाऊँ मैं.!!
जब से तेरे ख़याल का, मौसम हुआ है “दोस्त”
दुनिया की धूप-छाँव से आगे निकल गये.!!

Duniya Shayari in Hindi
जब से तेरे ख़याल का, मौसम हुआ है ‘दोस्त’
दुनिया की धूप-छाँव से आगे निकल गए.!!

उसे दोज़ख बनानी पड़ गई फिर
नतीज़ा ये रहा , दुनिया बना कर..!!

ये तो हम हैं के तेरा दर्द छुपा के दिल में।।
काम दुनिया के बा’दस्तूर किये जाते हैं..!!

अगर यही तेरी दुनिया का हाल है मालिक़
तो मेरी क़ैद भली है मुझे रिहाई न दे
~मेराज फैज़ाबादी

ग़मो की धूप में भी मुस्कुरा कर चलना पड़ता है।।
ये दुनिया है यहाँ चेहरा सजा कर चलना पड़ता है

अरे जनाब गर चलाए से यूँ हवाएँ चल जाती।।
दुनिया सारी एक माचिस की तीली से जल जाती..!!

मालिक़े-ख़ुल्द से दुनिया नहीं माँगा करते।।
यार दरयाओं से क़तरा नहीं माँगा करते..!!

एक टूटी हुई जंज़ीर की फ़रियाद हैं हम।।
और दुनिया ये समझती है के आज़ाद हैं हम..!!

गुलशन की फक़त फूलों से नहीं
काँटों से भी ज़ीनत होती है,।।
जीने के लिये इस दुनिया में
ग़म की भी ज़रूरत होती है

ग़लत है या सहीं ये सोचता है कौन दुनिया में।।
उधर हि लोग चलते हैं जिधर रहबर चलाता है..!!

दुनिया ने हर फ़साना हकीक़त बना दिया।।
हम ने हकीक़तों को भी अफ़साना कर दिया..!!

ग़मो की धूप में भी मुस्कुरा कर चलना पड़ता है।।
ये दुनिया है यहाँ चेहरा सजा कर चलना पड़ता है

मालिक़े-ख़ुल्द से दुनिया नहीं माँगा करते।।
यार दरयाओं से क़तरा नहीं माँगा करते..!!

अगर यही तेरी दुनिया का हाल है मालिक़।।
तो मेरी क़ैद भली है मुझे रिहाई ना दे..!!

जब से तेरे ख़याल का, मौसम हुआ है दोस्त।।
दुनिया की धूप-छांव से, आगे निकल गये ..!!

Search Tags
Du, दुनिया स्टेटस, दुनिया व्हाट्स अप स्टेटस, दुनिया पर शायरी, दुनिया शायरी, दुनिया पर शेर, दुनियाकी शायरीniya Shayari in Hindi, Duniya Hindi Shayari, Duniya Shayari, Duniya whatsapp status, Duniya hindi Status, Hindi Shayari onDuniya, Duniya whatsapp status in hindi,
World Shayari, World Hindi Shayari, World whatsapp status, World hindi Status, Hindi Shayari on WorldWorld whatsapp status in hindi,
 दुनिया हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, दुनिया
Powered by Blogger.